Categories
love shayari

love shayari in hindi

 love shayari in hindi

next

love shayari in hindi

नज़रे करम मुझ पर इतना न कर,
की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,
मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,
मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं। love shayari in hindi

हमें सीने से लगाकर हमारी सारी कसक दूर कर दो,
हम सिर्फ तुम्हारे हो जाऐ हमें इतना मजबूर कर दो।


अपनी कलम से दिल से दिल तक की बात करते हो
सीधे सीधे कह क्यों नहीं देते हम से #प्यार करते हो।

घायल कर के मुझे उसने पूछा,
करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे,
लहू-लहू था दिल मेरा मगर
होंठों ने कहा बेइंतहा-बेइंतहा।love shayari in hindi

नहीं है अब कोई जुस्तजू इस दिल में ए सनम,
मेरी पहली और आखिरी आरज़ू बस तुम हो।

love shayari in hindi


खड़े-खड़े साहिल पर हमने शाम कर दी,
अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी,
ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी,
बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी।

हम तो तेरी आवाज़ से प्यार करते हैं,
तस्सवुर में तेरे तन्हाइयों से प्यार करते हैं,
जो मेरे नाम से तेरे नाम को जोड़े ज़माने वाले,
उन चर्चों से अब हम प्यार करते हैं। love shayari in hindi



ऐसा क्या बोलूं कि तेरे दिल को छू जाए,
ऐसी किससे दुआ मांगू कि तू मेरी हो जाए,
तुझे पाना नहीं तेरा हो जाना है मन्नत मेरी,
ऐसा क्या कर दूं कि ये मन्नत पूरी हो जाए। love shayari in hindi

Categories
love shayari

Funny Sahyari On Friendship

Funny Sahyari On Friendship

 

   


 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

  

 

अटल जी, मोदी जी और योगी जी को देखकर सोचता हूं कि बिना बीवी वाला आदमी ही कामयाबी के शिखर को छूता है …..

लेकिन….
राहुल को देखकर वापस चुपचाप बैठ जाता हूँ

**Laakho Khwaish Aisi Ke Har Khawish Pe Dum Nikle,
Koi To Meri Wife Se Kahe Ke Wo Shopping Ke Liye Kam Nikle!**

**Tumhaari yaad dil se jaane nahin denge,
Tumhaare jaisa dost khone bhi nahin denge,
Roz sharafat se sms kiya karo warna,
Ek kaan k neeche denge or rone bhi nahin denge!**
 **Jidhar Dekho Ishq K Bimar Baithe H,
Hazaron Mar Gaye Lakhon Taiyar Baithe H,
Barbad Hote Hain Ladkiyon K Piche,
Aur Kehte Hai Ki Berojgar Baithe H!**

 **Naa jane kaun sa virus hai teri yaado me,

Tujhko sochta hu to hang sa ho jata hu…!**

 **अपनी इंडिया में सरकार हो या शादी,

सबको एक साल में खुश खबरी चाहिए..।**


**Raat ko kitab meri mujhe dekhti rhee..

neend mujhe apni orr khenchti rhee..
Neend ka jhonka mera mann moh gayaa..
Aur aik raat phir yeh genius bina padhe so gaya!!**

**Ab to dunyiya walon pe bilkul bharosa nahi karna ”Faraz”

Ek bewafa humko China ka Bakra keh kar Kutta Baich gaya!**

 **YU Barisho Se Dosti Achhi Nahi,

Ghar Main Paani Bhara to Tera Baap Nikaale Ga Kya!**

**Masoom Muhabbat ka

Bas itna fasana hai.
Ammi Ghar se Nikalny Nahi Deeti
AUR mujhy DATE pe jana hai!**

**Bahot Dard Hota He Jab Teacher Bolte He Mujse Ki,

Tumhare Aur Tumhare Aagewala Ka Answer Ek He Tha.
Tab Dil Se Aawaz Aati He, Tho Saale Savaal Bhi To Ek Hi Tha..!**

Next Page

Categories
love shayari

Shero Shayari For Love

Shero Shayari For Love

हर रात मेरा नाम बोल कर सोया करो, 
खिड़की खोल तकिया मोड़ के सोया करो, 
हम भी आएंगे तुम्हारे ख्यालों में, 
इसलिये थोड़ी सी जगह छोड़ के सोया करो। 

Shero Shayari For Love
हमे सुलाने के ख़ातिर रात आती है, 
हम सो नही पाते और रात सो जाती है, 
हमने पूँछा दिल से तो ये आवाज़ आयी,
आज दोस्त को याद करले रात तो रोज़ आती है। 

जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।


कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी,
चंद सिक्कों की खातिर तूने क्या नहीं खोया है,
माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास,
पर तू ये बता कितनी रातें चैन से सोया है।

हमारा ज़िक्र भी अब जुर्म हो गया है वहाँ,
दिनों की बात है महफ़िल की आबरू हम थे,
ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर,
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे।

जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,
जरुरी तो नहीं हम जिनके हैं वो हमारा हो,
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती हैं,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो।

खामोशी से बिखरना आ गया है,
हमें अब खुद उजड़ना आ गया है,
किसी को बेवफा कहते नहीं हम,
हमें भी अब बदलना आ गया है,
किसी की याद में रोते नहीं हम,
हमें चुपचाप जलना आ गया है,
गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,
हमें कांटों पे चलना आ गया है।

वक़्त नूर को बेनूर कर देता है,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,
कौन चाहता है अपनों से दूर रहना,
पर वक़्त सबको मजबूर कर देता है।


दिन की रोशनी ख्वाबों को सजाने में गुजर गई,
रात की नींद बच्चे को सुलाने मे गुजर गई,
जिस घर मे मेरे नाम की तखती भी नहीं,
सारी उमर उस घर को बनाने में गुजर गई।

फूल इसलिये अच्छे कि खुश्बू का पैगाम देते हैं,
कांटे इसलिये अच्छे कि दामन थाम लेते हैं,
दोस्त इसलिये अच्छे कि वो मुझ पर जान देते हैं,
और दुश्मनों को मैं कैसे खराब कह दूं…
वो ही तो हैं जो महफिल में मेरा नाम लेते हैं।

क्या गिला करें तेरी मजबूरियों का हम,
तू भी इंसान है कोई खुदा तो नहीं,
मेरा वक़्त जो होता मेरे मुनासिब,
मजबूरिओं को बेच कर तेरा दिल खरीद लेता।